काग़ज़ की कश्ती… hindi shayri on love

एक काग़ज़ की कश्ती थी,
कुछ पल चलके डूब गयी।
वो रौशनी जुगनुओ की थी,
उनके जाते ही छुप गयी।

~महावीर जैन

best hindi shayri on love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *