कुछ सवाल हैं यारा तुझसे !!! – Friendship poetry

कुछ सवाल हैं यारा तुझसे ,
की क्या जरूरते हैं तुझको मुझसे ।
मैं साथ रहूं ये काफी हैं ,
या बात करू ये काफी हैं ।

दोस्ती निभाते कैसे हैं ,
ये मुझको नहीं पता ।
मगर जब तक तू ना चाहे तुझसे दूर ना होऊंगा ।
बस इतना जान ले जरूरत नहीं हैं मेरी ,
तू जरूरी हैं मेरे लिए ।

मेरी औकात नहीं की ,
जो तू चाहे वो सब तुझे दिला सकूँ ।
वरना ख्वाहिश तो ये हैं की ,
तू नाम ले और वो तेरे सामने हाजिर करदूँ ।

माफ़ करना मेरे दोस्त ,
अगर कोई कमी रही हो तो ।
मगर जितना दे सकता हूँ दिया हैं तुझे ,
तू बता दे अगर कुछ बाकी हैं ,
अब बोल ना ,
मैं साथ रहूं ये काफी हैं ,
या बात करू ये काफी हैं ।
मेरे बस का हुआ तो बेशक करूँगा ,
तू बता अगर कुछ बाकी हैं ,
अब बोल भी ,
मैं साथ रहूं ये काफी हैं ,
या बात करू ये काफी हैं ।

~महावीर जैन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *