ख़ामोशी !- sad shayri

ख़ामोशी की आड़ में छिप कर रह गयी कुछ बातें ।
चुपचाप रही ख़ामोशी मुझको गुनहगार बनाके ।

~महावीर जैन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *