अनकही बाते… dard shayari

नहीं समझ आती कई बाते ख़ामोशी में,
जब तक उन्हें लफ्ज़ ना दो वो अनकही रह जाती हैं।

-महावीर जैन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *